loading...

बुधवार, 11 अक्तूबर 2017

स्वस्थ्य रहना हैं तो इन आदतों को अपनाइये। Health tips in hindi

Healthy rahna hai to in aadto ko apnaye-

एक अच्छा स्वास्थ्य मिल जाये इस दुनिया में तो मान लो कि सबकुछ मिल गया। 100 में कुछ प्रतिशत लोग ही स्वास्थ्य में अच्छे होते हैं। ऐसा नहीं हैं कि एक अच्छा स्वास्थ्य पाना बहुत कठिन हैं। अगर आप कुछ अपनी गंदी आदतें सुधार ले तो आप भी एक स्वस्थ्य शरीर के मालिक बन सकते हैं। हम इस पोस्ट में कुछ ऐसी आदतें सीखेगे जिनसे आप एक सुंदर और स्वस्थ्य शरीर पा सकते हैं।

1)- साबुन का इस्तेमाल सीखे-
 ये मेरी बात शायद आपको मजाक लगी हो पर मेरे कहने का ये मतलब नहीं हैं कि आप साबुन का इस्तेमाल ही नहीं जानते हैं। जब भी  किसी बाहरी वस्तु को छुए तब खाना खाने के पहले तथा बाद में साबुन से अच्छी प्रकार से हाथ अवश्य धुले। बाथरूम इस्तेमाल करने के बाद अच्छे से साबुन से हाथ जरूर धुले। किसी को भी चाहे वो छोटा बच्चा ही क्यों न हो उसे भी बिना हाथ धुले खाने की किसी भी चीज को न छूने दे। इन सबके लिए इसलिए कहा जा रहा हैं क्योंकि जब आप बिना धुले हाथ खायेंगे तो हाथ में उपस्थिति कीटाणु आपके पेट में चले जायेंगे और नाना प्रकार की बीमारियो को दावत देंगे। जब इनका इलाज हमारे पास मौजूद हैं तो हम इनकी दावत क्यों कबूल करे?

2)- इन चीजों की सफाई का रखें विशेष ध्यान-

वैसे कोई भी अपने घर की सफाई करने में कोई कसर नहीं छोड़ता हैं, वहीं अगर बात रसोई तथा शौचालय की आ जाये तो थोड़ी लापरवाई बरतते हैं। यही तो main place हैं सफाई करने की। अगर यहीं पर लापरवाई बरत देंगे तो आपकी सफाई का क्या फायदा? अधिकतर बीमारियाँ यहीं से तो फैलती हैं। इसलिए इन जगहों पर सफाई का विशेष ध्यान दे और कही भी पानी को इकट्ठा न होने दे। खाने को खुला न छोड़े। खाना बनाने तथा पकाने वाले बर्तनों को अच्छी प्रकार से धुले और गीले बर्तन को रैक में नहीं रखे। यदि आपके पास फ्रिज हैं तो उसकी नियमित सफाई करते रहे। क्योंकि थोड़ी सी सावधानी हटी तो दुर्घटना घटी। इस कहावत को पूरा होने में ज्यादा समय भी  नहीं लगता हैं। अंत: सफाई का विशेष ध्यान दे।

3)- इन चीजों से अब हो जाये सतर्क-

ताजी फल तथा सब्जियों का ही सेवन करे। बासी चीजों का परित्याग करे। इतनी फल और सब्जी न लाए कि वे पड़े बासी हो जाए। वैसे भी हर जगह फल तथा सब्जियाँ आसानी से available रहती हैं। अंत: आवश्यकता के अनुसार ही फल तथा सब्जियाँ खरीदकर लाये।
ज्यादा मिर्च तथा मसालें से बने भोज्य पदार्थों का सेवन न करे तथा कम तेलीय पदार्थों का ही सेवन करे। सब्जियों को ज्यादा पकाकर उनका पौष्टिक तत्व खत्म न करे। उन्हें हिसाब से ही पकाये। हो सके तो भोजन को हमेशा ढककर ही रखे और ताजा भोजन करने की कोशिश करे।

4)- खाने में इन चीजों को मिलाकर खाने को और पौष्टिक बनाये-
खाने के साथ दूध, दलिया तथा फल को अवश्य शामिल करे जिससे आपका भोजन और पौष्टिक बन जाये। अगर हो सके तो कोशिश अवश्य करे कि आपकी थाली में विभिन प्रकार के फल हो। स्वच्छ जल का ही सेवन करे। भोजन पकाने में भी स्वच्छता का विशेष ध्यान दे और खाना हर हमेशा स्वच्छ जल से ही बनाये।

Sorry friends time न होने की वजह से मैं पूरी पोस्ट नहीं डाल पाया। कल कोशिश करुंगा कि ये पोस्ट पूरी डाल सकू ताकि आप इसका फायदा उठा सके।

1 टिप्पणी: